बिहार

बिहार के पूर्वी चम्पारण में राजमार्ग 28 के कोटवा से डीजल, पेट्रोल, कच्चा स्प्रिट तथा गैस रिफलिंग का धंधा फलफूल रहा

बिहार के पूर्वी चम्पारण में राजमार्ग 28 के कोटवा से चकिया तक कई ऐसे लाइन होटल है जहाँ खाना परोसने का धंधा कम और वहां डीजल, पेट्रोल, कच्चा स्प्रिट तथा गैस रिफलिंग का धंधा ज्यादा हुआ करता है। यहाँ तक कि ट्रक से लदे खाद्यान्न भी उतारा जाता है। हालांकि इस धंधे में अक्सर हादसे भी हुआ करते हैं। वावजूद इससे इस धंधे पर विराम लगने के बजाय और ज्यादा विस्तारित ही हो रहा है।

सूत्रों पर यकीन करें तो क्षेत्र के कुछ ऐसे लोग हैं जिनके द्वारा टैंकरों के चालकों को अपने मेल में लेकर प्रतिदिन डीजल पेट्रोल, कच्चा स्प्रिट काटने व गैस टैंकर से रिफलिंग किया जाता है। इसके बदले में चालकों को कुछ ही राशि दी जाती है। जानकारों के अनुसार इस कारोबार में जुड़े लोग की पैठ प्रशासन से लेकर राजनेताओं तक है। जिसके बलबूते पर बेरोकटोक इस अवैध कारोबार को संचालित करते हैं।

बताया जाता है कि गैस के टैंकर से रसोई गैस सिलेंडर में रिफिलिंग कर पिकअप व टेम्पो के सहारे पीपराकोठी, पीपरा व मोतिहारी के गैस कारोबारियों के साथ होटलों में कम कीमत पर सप्लाई की जाती है। उधर कच्चे स्प्रिट को टैंकर से काटकर शराब के खुदरा व्यवसायी को होम डिलीवरी की जाती है। जबकि डीजल और पेट्रोल को भी खुदरा बेचने वाले व्यवसायी को आपूर्ति की जाती है। इस खेल में प्रशासन भी सब कुछ जानते हुए मौन है।

कल हुए सिलेंडर विष्फोट के संबंध में थानाध्यक्ष अभिषेक कुमार रंजन ने कहा कि अग्निशमन विभाग के अधिकारियों की टीम पहुंची हुई है। उनके द्वारा दिया प्रतिवेदन के आधार पर आगे की कार्रवाई की जायेगी।

Related Articles