ज़रा-हटकेराजनीति

मिशन 2019 : बुआ बनीं बबुआ की ढाल,बाद में होगा मलाल या उप्र में करेंगे कमाल



लखनऊ। ‘बुआ’ (मायावती)बनीं ‘बबुआ'(अखिलेश ) की ढाल,अब देखना है कि बाद में दोनों को होगा मलाल या दोनों मिलकर उ.प्र. में लोक सभा चुनाव में करेंगे कमाल।

 यूपी में खनन घोटाले में अखिलेश यादव का नाम घसीटने पर बीएसपी मुखिया मायावती ने एसपी चीफ को फोन करके उनका समर्थन किया और डटकर मुकाबला करने की सलाह दी।

मायावती ने सीबीआई की कार्रवाई को बीजेपी की साजिश बताया। उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार की हकीकत पूरी दुनिया जानती है। इस तरह की उनकी राजनीति और चुनावी षडयंत्र कोई नई बात नहीं है। इससे पहले एसपी-बीएसपी ने 25 सालों बाद साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस करके बीजेपी पर हमला किया था।

बीएसपी की लखनऊ यूनिट ने प्रेस रिलीज जारी करके मायावती और अखिलेश की बातचीत के बारे में बताया। मायावती ने रविवार को अखिलेश को फोन कर कहा कि देश की जनता बीजेपी की साजिशों को समझती है और बीएसपी आंदोलन भी इसका भुक्तभोगी रहा है। उन्होंने अखिलेश से कहा, ‘इससे घबराने की जरूरत नहीं है बल्कि इसका डटकर मुकाबला करके इनकी साजिश को विफल करने की जरूरत है।’

मायावती ने कहा कि जिस दिन एसपी-बीएसपी के शीर्ष नेतृत्व की मुलाकात संबंधी खबर मीडिया में आई, तभी से बीजेपी ने सीबीआई को लंबित पड़े खनन मामले में छापेमारी करवाई। इसके अलावा अखिलेश से पूछताछ करने संबंधी खबर जानबूझकर फैलाई गई। उन्होंने कहा कि यह चुनावी षडयंत्र के तहत एसपी-बीएसपी को बदनाम और प्रताड़ित करने की कार्रवाई नहीं तो और क्या है?

उन्होंने कहा, ‘अगर यह कार्रवाई राजनीतिक साजिश नहीं है तो इसपर पहले कार्रवाई करनी चाहिए। इस मामले में बीजेपी नेता अनावश्यक बयानबाजी कर रहे हैं। वे सीबीआई के प्रवक्ता कबसे बन गए हैं?’ मायावती ने कहा, ‘बीजेपी अपने विरोधियों को फर्जी मामले में फंसाने में माहिर रही है और बीएसपी आंदोलन भी इसे झेल चुका है।

जब यूपी लोकसभा की 80 में से 60 सीटें बीएसपी ने बीजेपी को देने से इनकार कर दिया तो उन्होंने मुझे ताज मामले में फर्जी तौर पर फंसा दिया। इसके बाद मैंने 26 अगस्त 2003 को बीएसपी आंदोलन के व्यापक हित को ध्यान में रखते हुए सीएम पद से इस्तीफा दे दिया था।’

Related Articles