उत्तर प्रदेश

IPS बेटे को सलामी देंगे लखनऊ में तैनात सिपाही पिता, बोले मेरे लिए गर्व की बात

लखनऊ । राजधानी के विभूतिखंड थाने में तैनात सिपाही का बेटा आईपीएस बन गया  । इससे ज्यादा खुशी की बात यह है कि बेटे को भी लखनऊ जिले में ही तैनाती मिल गई है । पिता अब अपने आईपीएस बेटे के मातहत के रूप में काम करेंगे । जज्बा अौर जुनून दिल में हो तो कोई हसरत अधूरी नहीं रह सकती। इस बात को साबित कर दिखाया है   दरअसल,उन्नाव से तबादले पर लखनऊ के एएसपी (उत्तरी) बनाए गए आईपीएस अनूप कुमार सिंह के पिता जनार्दन विभूतिखंड थाने में सिपाही के पद पर तैनात हैं ।

पिता जनार्दन सिंह गर्व से कहते हैं कि वह ऑन ड्यूटी कप्तान को सैल्यूट करेंगे । आईपीएस अनूप कुमार सिंह कहते हैं कि वह घर पर पिता के पैर छूकर आशीर्वाद लेंगे, लेकिन फर्ज निभाने के दौरान वे प्रोटोकॉल का पालन करेंगे । पिता ने बताया कि बेटा बहुत ही सख्त और ईमानदार है ।

वहीं, अनूप कुमार सिंह बताते हैं कि उन्होंने फर्ज और संस्कार अपने पिता से सीखे हैं । इससे पहले वह गाजियाबाद, नोएडा में तैनाती के बाद उन्नाव में एएसपी रह चुके हैं ।

आप को बता दें कि जनार्दन सिंह मूल रूप से बस्ती नगर थाना क्षेत्र के पिपरा गौतम गांव के रहने वाले हैं । नौकरी के सिलसिले में अलग-अलग जिलों में रहे । इस बीच बेटे की प्रारंभिक शिक्षा बाराबंकी के टिकैतनगर में हुई ।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन किया था, जेएनयू से पीजी करने के बाद बेटे ने सिविल सर्विसेज की तैयारी की और पहली बार 2014 में ही सिविल सर्विसेज में चयनित होकर आईपीएस अफसर बन गया । जनार्दन सिंह के मुताबिक दिल्ली स्थित जेएनयू विवि में अच्छे अंक पाने पर बेटे को स्कॉलरशिप मिलती थी । अपने सीमित खर्च के चलते मना करने के बाद भी बेटा स्कॉलरशिप के रुपए भी घर भेज देता था ।

जनार्दन सिंह ने बताया कि परिवार में उनकी पत्नी कंचन सिंह, बेटी मधु और बहू अंशुल है. वह परिवार के साथ विक्रांत खंड स्थित अपने घर पर रहेंगे. बेटा अधिकारी है, इसलिए वह अपने सरकारी आवास में रहेगा ।

 

Related Articles