उत्तराखंड

उत्तराखंड में मास्क नहीं पहना, तो पेट्रोल नहीं

कोरोना वायरस की बढ़ती मार को देखते हुए शुरुआत से ही लोगों ने हैंड सेनीटाइज़र के इस्तेमाल पर जोर देना शुरु कर दिया था. अब इन हालातों को देखते हुए मास्क पहनना अति आवश्यक हो गया है. इस बात को लोगों के दिमाग में फिक्स करने के लिए अलग-अलग तरीका अपनाया जा रहा है. अब उत्तराखंड के देहरादून में कोरोना से बचाव और संक्रमण को रोकने के लिए अब पेट्रोल पंप संचालक भी आगे आए हैं. संचालकों ने पेट्रोल पंपों पर मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है। जो भी व्यक्ति मास्क पहनकर नहीं आएगा, उसे पेट्रोल नहीं दिया जाएगा.

मास्क

इसके लिए प्रत्येक पेट्रोल पंपों पर नो मास्क, नो फ्यूल के बैनर व पोस्टर चिपकाए गए हैं। कोरोना के संक्रमण को रोका जा सके, इसके लिए राज्य सरकार ने प्रत्येक सार्वजनिक स्थान पर मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है। ऐसे में दून के पेट्रोल पंप संचालक भी सरकार के साथ खड़े हो गए हैं। रविवार को देहरादून पेट्रोल पंप ऐसोसिएशन ने बैठक कर सभी पेट्रोल पंपों पर मास्क को अनिवार्य कर दिया है।

एसोसिएशन के मीडिया प्रवक्ता विवेक गोयल ने कहा कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए एसोसिएशन ने यह निर्णय लिया है। कहा कि अब जो भी पेट्रोल पंपों पर बिना मास्क के आएगा, उसे पेट्रोल डीजल नहीं दिया जाएगा।इसके लिए सभी पेट्रोल पंपों पर नो मास्क, नो फ्यूल के बैनर पोस्टर लगा दिए गए हैं। कहा कि जो भी पेट्रोल पंप संचालक इसका उल्लंघन करेगा, उसके खिलाफ एसोसिएशन कार्रवाई करेगा।

लोगों को जागरूक करेंगे गैस डिलीवरी कर्मचारी.गैस डिलीवरी करने वाले कर्मचारी भी अब लोगों को कोरोना के प्रति जागरूक करेंगे। गैस डिलीवरी करते समय वह लोगों को घर में रहने, मास्क पहनने और सोशल डिस्टेंसिंग की अपील करेंगे। साथ ही आरोग्य सेतु एप और लॉकडाउन के नियमों की जानकारी देंगे।

शहर में हर दिन करीब 12 से 15 हजार सिलिंडरों की होम डिलीवरी होती है। 16 अप्रैल को केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने करीब 800 डिलीवरी कर्मचारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग से बात की थी। मंत्री ने कहा कि कोरोना वॉरियर्स की तरह वह भी लोगों की सेवा कर रहे हैं। ऐसे में वे लोगों को जागरूक भी करें। साथ ही लॉकडाउन के नियमों, सोशल डिस्टेसिंग और मास्क पहनने के लिए प्रेरित करने को कहा है।

Related Articles