उत्तर प्रदेशखाना -खजाना

COVID-19 स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को सरकार दे रही 50 लाख का बीमा कवर, इस इंश्योरेंस में आप शामिल हैं या नहीं ?

नई दिल्ली. कोरोनो वायरस महामारी से लड़ने में मदद करने वाले हर स्वास्थ्य कर्मचारी को 50 लाख रुपये का बीमा कवर दिया गया है. यह बीमा कवर केवल दुर्घटना बीमा कवर है. इसमें कर्मचारियों के इलाज पर हुआ किसी भी प्रकार का खर्च शामिल नहीं होगा. यह योजना वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 26 मार्च को घोषित की थी और ये प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज का एक हिस्सा है.

 आपको बताते हैं इस दुर्घटना बीमा योजना में क्या शामिल है और क्या नहीं?

इस बीमा में COVID -19 के कारण किसी कर्मचारी की मौत होती है तो उसे ये पैसा मिलेगा. कोरोना वायरस ड्यूटी के दौरान आकस्मिक मृत्यु भी इस बीमा कवर में शामिल है.

योजना में इन लोगों को किया जाता है कवर

 सामुदायिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं सहित सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता, जिन्हें COVID-19 रोगियों के सीधे संपर्क और देखभाल में रहना पड़ सकता है और जिन्हें इससे प्रभावित होने का खतरा हो सकता है.

निजी अस्पताल के कर्मचारियों और सेवानिवृत्त / स्वयंसेवक / स्थानीय शहरी निकायों / केंद्रीय अस्पतालों / केंद्रीय / राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों के स्वायत्त अस्पतालों, एम्स और आईएनआई / केंद्रीय मंत्रालयों के अस्पताल में काम कर रहे लोगों को भी शामिल करने का प्रस्ताव दिया गया है.

30 मार्च से शुरू होने वाली इस policy की अवधि 90 दिनों की है. इस योजना के लिए कोई आयु सीमा नहीं है और व्यक्तिगत नामांकन की आवश्यकता नहीं है.

इस योजना के लिए प्रीमियम की पूरी राशि स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा वहन की जा रही है.

Related Articles