राजनीतिराष्ट्रीय

लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने को सिरे से खारिज -राजीव गुबा

नई दिल्ली।  कोरोना वायरस के डर से बचने और बीमारी को खत्म करने के लिए 21 दिनों का लॉकडाउन लागू कर दिया गया है। यह लॉकडाउन अप्रैल को खत्म हो जाएगा। इस बीच सोशल मीडिया पर तमाम तरह के मैसेज वायरल हो रहे हैं। इसी में एक वीडियो और है जिसमें कहा गया है कि लॉकडाउन की अवधि बढ़ाई भी जा सकती है। केंद्रीय कैबिनेट सचिव राजीव गुबा ने इन तमाम तरह की खबरों को सिरे से खारिज कर दिया है।

केंद्रीय कैबिनेट सचिव राजीव गुबा

सोशल मीडिया पर जो संदेश वायरल हो रहे हैं उनमें दावा किया जा रहा है कि सरकार लोगों को पैनिक नहीं करना चाहती, इसलिए थोड़े-थोड़े समय के लिए लॉकडाउन कर रही है और ये 21 दिनों का लॉकडाउन बाद में और बढ़ सकता है. हालांकि राजीव गुबा ने ऐसी सभी संभावनाओं को खारिज कर दिया है.

बता दें, देशभर में कोरोना के मरीजों का आंकड़ा हजार के पार पहुंच गया है जबकि 28 लोगों की मौत हो गई है. लॉकडाउन के बावजूद हालातों में सुधार होता दिखाई नहीं दे रहा है.

ANI@ANI

I’m surprised to see such reports, there is no such plan of extending the lockdown: Cabinet Secretary Rajiv Gauba on reports of extending #CoronavirusLockdown (file pic)

View image on Twitter

3,6709:04 AM – Mar 30, 2020Twitter Ads info and privacy1,054 people are talking about this

वहीं दूसरी तरफ केंद्रीय गृह मंत्रालय के आदेश के बाद दिल्ली और नोएडा में और सख्ती की तैयारी की गई है. अब बेवजह कोई घर से बाहर निकला तो उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के साथ उसकी गाड़ी को जब्त कर लिया जाएगा. सिर्फ कर्फ्यू पास वालों को छूट दी जाएगी. इसके अलावा नोएडा पुलिस ने कहा कि जबतक जरूरी न हो शाम 4 बजे के बाद घर से बाहर न निकलें.

यूपी के नोएडा (Noida) और आस-पास के इलाकों में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. हालात बिगड़ता देख गौतम बुद्ध नगर जिले में रैपिड एक्शन फोर्स (RAF) और पीएसी (PAC) की एक बटालियन भेजी गई है. बताया जा रहा है कि जिले में पुलिस, पीएसी और आरएएफ साथ मिलकर सोमवार से लॉक डाउन का पालन कराना सुनिश्चित करेंगे. बता दें, उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा कोरोना वायरस के मरीज गौतम बुद्ध नगर जिले में मिले हैं. यहां कोरोना संक्रमित मरिजों की संख्या 31 पहुंच चुकी है. यह संख्या लगातार बढ़ती जा रही है.

Related Articles