मध्य प्रदेश

सर्दी में ही सुख गईं मध्यप्रदेश की ये दो बड़ी नदियां

बुरहानपुर ।वातावरण कितनी तेजी से बदल रहा है, इसकी कल्पना करना भी कठिन है। अभी ठंड ही चल रही है पर कई जगहों पर तेज गर्मी का सा अहसास भी हो रहा है। यहां तक कि नदिया सूख रहीं हैं।पांच मीटर तक गिरा ताप्ती का जल स्तर, उतावली नदी भी सूखी शहर की जीवनधारा मानी जाने वाली ताप्ती नदी का जलस्तर लगातार कम होता जा रहा है।

फाइल फोटो ताप्ती नदी

दिसंबर माह में ताप्ती का जलस्तर घटकर 215.670 मीटर पर आ गया है, जबकि वर्षाकाल समाप्त होने पर यह 220.800 मीटर पर था। बीते कुछ माह में ही जलस्तर 5.130 मीटर गिर गया है।

ताप्ती नदी का जलस्तर गिरने से आगामी ग्रीष्मकाल में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। उतावली नदी भी सूखने की कगार पर है। जिले के बीच से होकर गुजरने वाली ताप्ती नदी का दायरा ठंड में ही सिमट कर आधे से भी कम हो गया है और पाट सूख गए हैं।

फाइल फोटो उतावली नदी

राजघाट के बाद ताप्ती नदी छोटे-छोटे हिस्सों में बंटी नजर आ रही है। बड़े पुल के समीप ताप्ती का दायरा सिमट कर कुछ मीटर ही रहा गया है। ताप्ती नदी के जल को रोकने के लिए जिला प्रशासन द्वारा जनभागीदारी से ताप्ती पर रोक बांध निर्माण करवाती थी, लेकिन पिछले कुछ वर्षों से यह कार्य बंद हो गया है।

इससे ग्रीष्मकाल में ताप्ती नदी लगभग सूख जाती है। इससे भूमिगत जलस्तर कम होने से शहर एवं ताप्ती किनारे बसे गांवों में पेयजल की परेशानी होती है। ताप्ती के अस्तित्व को बचाने के लिए बांध निर्माण कार्य करवाना आवश्यक है।

Related Articles