खेल

Ind Vs WI 10वीं सीरीज जीतने के इरादे से उतरेगी इंडिया टीम

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम रविवार को तीसरे एक दिवसीय क्रिकेट मैच में उतरेगी तो उसका इरादा वेस्टइंडीज के खिलाफ लगातार 10वीं द्विपक्षीय श्रृंखला जीतने का होगा. वेस्टइंडीज ने चेन्नई ने पहले वनडे में शानदार जीत दर्ज की थी लेकिन भारत ने विशाखानपत्तनम में दूसरा मैच उसी अंदाज में जीतकर वापसी की.कप्तान विराट कोहली खाता नहीं खोल सके लेकिन शीर्षक्रम के सभी बल्लेबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया और चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव ने हैट्रिक लगाई. भारत ने दूसरा मैच 107 रन से जीता. दूसरे मैच में 159 रन बनाने वाले रोहित सभी प्रारूपों में सर्वाधिक रन बनाने वाले सलामी बल्लेबाज सनत जयसूर्या के रिकार्ड से नौ रन पीछे हैं.

केएल राहुल ने भी पहले विकेट की 220 रन की साझेदारी में शतक जमाया था. जून में पाकिस्तान के खिलाफ विश्व कप मुकाबले से पारी का आगाज कर रहे राहुल ने वेस्टइंडीज के खिलाफ शानदार प्रदर्शन करके अपनी जगह पक्की कर ली है. श्रेयस अय्यर और ऋषभ पंत ने भी रन बनाये. गेंदबाजी में चोटिल दीपक चाहर की जगह दिल्ली के तेज गेंदबाज नवदीप सैनी को मौका मिल सकता है.

फील्डिंग में भारत का प्रदर्शन अपेक्षा के अनुरूप नहीं रहा. अय्यर ने जरूर शिमरोन हेटमायेर को शानदार थ्रो पर रन आउट किया लेकिन चाहर ने निकोलस पूरन और शाइ होप का कैच टपकाया. कोहली ने मैच के बाद कहा ,‘‘ हमें कैचिंग बेहतर करनी होगी. अपनी गलतियों से पार पाना होगा. फील्डिंग का लुत्फ उठाने की जरूरत है.’’बाराबती स्टेडियम की पिच भी विशाखापत्तनम की तरह बल्लेबाजों की मददगार होगी. हेटमायेर और होप ने चेन्नई में भारतीय गेंदबाजों को दबाव में रखा था और दूसरे मैच में अय्यर का बेहतरीन थ्रो नहीं होता तो वह एक बार फिर बड़ी पारी खेल जाते.

आईपीएल नीलामी में दिल्ली कैपिटल्स ने हेटमायेर को सात करोड़ 75 लाख रूपये में खरीदा. उनके साथी शेल्डन कोटरेल को किंग्स इलेवन पंजाब ने साढे आठ करोड़ रूपये में खरीदा. वहीं इस साल रोहित के बाद सर्वाधिक रन बना चुके होप पर किसी ने बोली नहीं लगाई और वह इस मैच में बड़ी पारी खेलकर अपनी उपयोगिता साबित करना चाहेंगे.

कीरोन पोलार्ड की टीम ने पहले दो वनडे में टास जीतकर गेंदबाजी का फैसला किया. यहां भी ओस को ध्यान में रखकर टीमें दूसरी पारी में गेंदबाजी से बचना चाहेंगी. वेस्टइंडीज टीम इस प्रयास में होगी कि भारत से 13 साल बाद कोई द्विपक्षीय श्रृंखला जीत सके. मार्च में ऑस्ट्रेलिया से द्विपक्षीय श्रृंखला हारी भारतीय टीम ने पिछले 15 साल में लगातार दो द्विपक्षीय श्रृंखलायें नहीं गंवाई है.

Related Articles