अयोध्या जोन

पूर्व ब्लॉक प्रमुख के आवास पर चल रही भव्य श्रीमदभागवत कथा में धूमधाम से हुआ कृष्ण-रुक्मणी विवाह

भेलसर(अयोध्या) ।विकास खण्ड रूदौली के पूरे वल्दन मजरे बारी गांव में चल रही श्री मद्गभावत कथा में छठे दिन श्रीकृष्ण और रुक्मणि का विवाह बड़े ही धूमधाम से मनाया गया।विवाह उत्सव के दौरान प्रस्तुत किए गए भजनों के दौरान श्रद्धालु अपने आप को रोक नहीं पाए और जमकर नाचे।
कार्यक्रम में ब्लॉक प्रमुख रुदौली शिल्पी सिंह व भाजपा नेता सर्वजीत सिंह भी बारातियों व घरातियों के साथ थिरकते नजर आये।कथा व्यास साध्वी अमृतानन्मयी जी ने कहा कि रुक्मणि भगवान की माया के समान थीं।रुक्मणि ने मन ही मन यह निश्चय कर लिया था कि भगवान श्री कृष्ण ही मेरे लिए योग्य पति हैं।

लेकिन रुक्मिणी का भाई रूकमी श्रीकृष्ण से द्वेष रखता था।इससे उसने उस विवाह को रोक कर,शिशुपाल को रुक्मिणी का पति बनाने का निश्चय किया।इससे रुक्मिणी को दुःख हुआ।उन्होंने अपने एक विश्वासपात्र को भगवान श्रीकृष्ण के पास भेजा।साथ ही अपने आने का प्रयोजन बताया।इसके बाद श्रीकृष्ण जी विदर्भ जा पहुंचे।उधर रुक्मणी का शिशुपाल के साथ विवाह की तैयारी हो रही थी।परंतु उनकी प्रार्थना का असर हुआ और श्रीकृष्ण का विवाह रुक्मणी के साथ हुआ।कथा सुनने आए सैकड़ों श्रद्धालुओं ने भगवान श्रीकृष्ण व रुक्मणी जी की झांकी के दर्शन एवं अयोध्या धाम से पधारे आचार्य धनन्जय मिश्र द्वारा रुकमणी मंगल के मंत्र श्लोक गाये गये। कथा में हजारों श्रद्धालुओं की भीड़ गवाह बनी रही।पूर्व ब्लाक प्रमुख भाजपा नेता सर्वजीत सिंह द्वारा प्रसाद की उचित व्यवस्था की गई।

Related Articles