अपराध

पत्रकारआशीष ने दोस्त से फोन पर बोला था,जल्दी मेरे घर आओ,तभी गोली चलने की आवाज

सहारनपुर। पत्रकार आशीष और उसके भाई की हत्या के मामले में कई सनसनीखेज जानकारी सामने आई हैं।

आरोपियों की आशीष से पुरानी रंजिश चल रही थी। आशीष ने दो साल पहले उनके खिलाफ खबर छापी थी, जिसके बाद से ही वह उससे रंजिश रखते थे। आरोपियों ने पूरी प्लानिंग से दोहरे हत्याकांड़ को अंजाम दिया।

हत्या से पहले अपना पूरा सामान ट्रक में भरकर अपने गांव भिजवा दिया, इसके बाद वारदात को अंजाम देकर फरार हो गए। पुलिस को आरोपियों के यहां तलाशी में भारी संख्या में ह​थियार मिले हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार आशीष के घर के सामने रहने वाले महिपाल सैनी और उसका परिवार दबंग किस्म का है। लगभग ढाई साल पहले वह मुजफ्फरनगर के झिंझाना से आकर यहां बसे थे। शुरूआत में उन्होंने यहां एक मकान किराए पर लिया फिर आशीष के सामने वाली राणा डेरी पर कब्जे की प्लानिंग शुरूआत कर दी।

बताया जाता है कि कुछ दिन बाद ही मारपीट कर डेरी वाले को वहां से भगा दिया। इसके बाद वहां गाय भैंसें बांधकर खुद की डेरी शुरू कर दी। डेरी में ही महिपाल का परिवार परचून की दुकान भी करता था। लेकिन दुकान के पीछे मकसद कुछ और था। स्थानीय लोगों के अनुसार ये लोग हरियाणा की शराब लाकर यहां बेचते थे। इसी मामले में आशीष ने दो साल पहले अपने अखबार में यह खबर छापी थी। जिसमें पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की थी, उसके बाद से ही महिपाल का परिवार आशीष से रंजिश रखता था।

इसी कड़ी में पूरी प्लानिंग से आशीष और उसके भाई की हत्या की गई। आरोपियों ने कल शाम ही अपना सारा सामान और गाय भैंस ट्रक में लादकर वापिस अपने गांव भिजवा दिया। इसके बाद आशीष के परिवार से झगड़े के लिए मौका तलाशने लगे। बताया जाता है कि दो दिन पहले आशीष की मां ने नाले में कूड़ा डाला था, उसे ही मौका बनाकर महिपाल अपने दोनों बेटों के साथ रविवार सुबह आशीष के घर में घुस गया। इसके बाद डंडा मारकर आशीष और उसके भाई आशुतोष का सिर फोड़ दिया। इस पर आशीष ने लहूलुहान हालत में अपने दोस्त सुधीर गुंबर को फोन मिलाया और बताया कि महिपाल सैनी ने उसके घर में घुसकर मारपीट की है, दोनों भाइयों का सिर फोड़ दिया है। आशीष ने सुधीर से जल्दी पुलिस को फोन करके अपने घर आने को कहा।

Related Articles